राजनीति में चौधरी साहब का बेदाग व्यक्तित्व-अखिलेश यादव

       समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि कल 29 मई को पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की 33वीं पुण्यतिथि पर देश उनको याद करते हुए अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करेगा।
 


      श्री यादव ने कहा कि चौधरी चरण सिंह जी ने आजीवन किसानों, दलितों तथा समाज के कमजोर लोगों की सुरक्षा एवं समृद्धि के लिए संघर्ष किया। गांव, खेती और किसान उनकी प्राथमिकता में थे। केन्द्रीय वित्तमंत्री के रूप में उन्होंने सत्ता का रूख शहर से गांव की ओर मोड़ने का प्रयास किया था। किसानों का उनसे बड़ा कोई दूसरा हितैषी नहीं रहा। जमींदारी उन्मूलन उनका स्मरणीय विधायन कार्य है।
   


     अखिलेश यादव ने कहा कि राजनीति में चौधरी साहब का बेदाग व्यक्तित्व रहा। अपनी ईमानदारी के लिए वे जाने जाते है। वे कुशल वक्ता के साथ प्रखर लेखक भी थे। उन्होंने राष्ट्रीय समस्याओं पर कई पुस्तकें लिखी हैं। वे कट्टर गांधीवादी थे। उन्होंने स्वदेशी की अवधारणा पर बल ही नहीं दिया अपने जीवन में भी उसे उतारा था।
   


     आज उनके विचार पहले से भी अधिक प्रासंगिक और अनुकरणीय लगते है। उन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और जेल की यातनाएं झेली। वे लोकतंत्र को अक्षुण्य रखने के लिए आपातकाल में दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद रहे। समाजवादी पार्टी चौधरी साहब के विचारों के लिए प्रतिबद्ध। चौधरी साहब को शत्-शत् नमन्।