श्रमिकों के कौशल की मैपिंग भी चिकित्सकीय परीक्षण के समय किया जाए:  मुख्य सचिव

      कोविड-19 की रोकथाम, उपचार व उससे बचाव के लिए चिकित्सा विभाग के अलावा अन्य विभागों के भी कार्मिक जो फील्ड एवं सार्वजनिक स्थानों पर ड्यूटी हेतु लगे हुए हैं उन्हें पर्याप्त सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराये जाने के मुख्य सचिव के निर्देश।
        अन्य राज्यों से वापस आ रहे श्रमिकों का चिकित्सकीय परीक्षण कराकर स्थापित व्यवस्था के अनुसार क्वारंटाइन में रखा जाए।
श्रमिकों के कौशल की मैपिंग भी चिकित्सकीय परीक्षण के समय अथवा क्वारंटाइन
अवधि के दौरान ही कराया जाना सुनिश्चित किया जाए।क्वारंटाइन अवधि के उपरान्त श्रमिकों को उनकी दक्षता के अनुसार विभिन्न योजनाओं में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए जायें।मुख्य सचिव ने परिपत्र के माध्यम से दिए निर्देश।

    लखनऊ,  उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव  ने कोविड-19 की रोकथाम, उपचार व उससे बचाव के लिए चिकित्सा विभाग के अलावा अन्य विभागों के भी कार्मिक जो फील्ड एवं सार्वजनिक स्थानों पर ड्यूटी हेतु लगे हुए हैं उन्हें पर्याप्त सुरक्षा उपकरण जैसे कि हाथ के दस्ताने, मास्क आदि अन्य आवश्यक उपकरण उपलब्ध कराये जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ड्यूटी में लगे समस्त कर्मियों में संक्रमण की आशंका सदैव बनी रहती इसलिए आवश्यक उपकरण कर्मियों को उपलब्ध कराना सुनिश्चित कराया जाए।
मुख्य सचिव ने यह निर्देश समस्त मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों एवं पुलिस आयुक्तों, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों एवं पुलिस अधीक्षको को परिपत्र के माध्यम से दिए।


     श्री तिवारी ने अन्य राज्यों से वापस आ रहे श्रमिकों का चिकित्सकीय परीक्षण कराकर स्थापित व्यवस्था के अनुसार क्वारंटाइन में रखे जाने के निर्देश दिए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि श्रमिकों के कौशल की मैपिंग भी चिकित्सकीय परीक्षण के समय अथवा क्वारंटाइन अवधि के दौरान ही कराया जाना सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने क्वारंटाइन अवधि के उपरान्त श्रमिकों को उनकी दक्षता के अनुसार विभिन्न योजनाओं- एक जनपद एक उत्पाद (ओ0डी0ओ0पी0), राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एन0आर0एल0एम0), राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन (एन0यू0एल0एम0), मनरेगा, गोवंश संरक्षण केन्द्र, राष्ट्रीय बागवानी मिशन (एन0एच0एम0) एवं निर्माण कार्यों में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराये जाने के भी निर्देश दिए।
-