स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी गाइड लाइन एवं प्रोटोकाल का कड़ाई से करें अनुपालन-जिलाधिकारी

   


   जिलाधिकारी ने टीम-11 के अधिकारियों के साथ की बैठक दिये आवश्यक दिशा निर्देश, स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी गाइड लाइन एवं प्रोटोकाल का कड़ाई से करें अनुपालन।


       प्रतापगढ़, जिलाधिकारी डा0 रूपेश कुमार की अध्यक्षता में आज कैम्प कार्यालय में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव, रोकथाम एवं आमजनमानस को आवश्यक सुविधाये सुनिश्चित करने हेतु गठित टीम-11 के साथ बैठक की गयी। बैठक में जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि कोविड-19 हास्पिटल ट्रामा सेन्टर गायघाट एवं लालगंज में भर्ती मरीजों का इलाज कर रहे डाक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ के रहने एवं भोजन की व्यवस्था गुणवत्तापूर्ण हो इस पर विशेष ध्यान दिया जाये तथा जो भी प्रवासी श्रमिक जनपद में बाहर से आ रहे है उनकी थर्मल स्क्रीनिंग अवश्य की जाये, स्क्रीनिंग के दौरान यदि किसी में कोरोना वायरस से सम्बन्धित लक्षण मिलते है तो उनका सैम्पल लेकर जांच हेतु मेडिकल कालेज प्रयागराज भेजा जाये तथा उस व्यक्ति को मेडिकल क्वारेन्टाइन में रखा जाये।


    कोविड-19 अस्पताल में निरन्तर साफ-सफाई की जाये और भर्ती मरीजों का नियमित स्वास्थ्य परीक्षण किया जाये तथा उन्हें समय-समय पर भोजन दिया जाये। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी की गयी कोविड-19 की (कोरोना वायरस) गाइड लाइन एव प्रोटोकाल का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाये इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही एवं शिथिलता न बरती जाये।


     जिलाधिकारी ने जिला कृषि अधिकारी से टिड्डी दल के सम्बन्ध में जानकारी ली तो बताया गया कि टिड्डी दल अब तक जनपद सोनभद्र की सीमा तक पहुॅचा है जिस पर जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि जनपद में टिड्डी दल आने पर आम ,सब्जी एवं अन्य फसलों के नुकसान की सम्भावना है इसलिये कुण्डा मानिकपुर क्षेत्र सहित अन्य क्षेत्रों में इससे बचाव के सम्बन्ध में तैयारियॉ सुनिश्चित कर ली जाये और टिड्डी दल के जनपद में आगमन के सम्बन्ध में निरन्तर सतर्क रहकर जानकारी प्राप्त करते रहे। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि जनपद में जो प्रवासी श्रमिक आ रहे है उन्हें मनरेगा योजनान्तर्गत जॉब कार्ड निर्गत किया जाये तथा रोजगार उपलब्ध कराया जाये जिससे वे अपना भरण-पोषण कर सके।


     उन्होने अधिकारियों को निर्देशित किया कि बाहर से आने वाले प्रवासियों को होम क्वारेन्टाइन की अवधि में घर से बाहर निकलने की शिकायत प्राप्त हो रही है इसलिये होम क्वारेन्टाइन किये गये व्यक्तियों को यदि बाहर घूमते हुये पाया जाये तो उनके विरूद्ध एपिडमिक डिजीज एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज कराने की कार्यवाही की जाये। इस सम्बन्ध में यदि ग्राम प्रधान की अध्यक्षता में गठित निगरानी समिति द्वारा होम क्वारेन्टाइन किये गये लोगों के पर्यवेक्षण में शिथिलता बरती जायेगी तो उनके विरूद्ध भी कार्यवाही की जायेगी। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 अमित पाल शर्मा, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 अरविन्द कुमार श्रीवास्तव, जिला सूचना अधिकारी विजय कुमार सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।