विकास खण्ड वार किराये पर गोदाम लिये जाने की तत्काल आवश्यकता-निश्चल आनन्द

       लखनऊ 29 मई,  जिला खाद्य विपणन अधिकारी लखनऊ निश्चल आनन्द ने सूचित किया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अन्तर्गत ब्लाॅक स्तर पर खाद्यान्न के भण्डारण हेतु उ0प्र0 नियमावली 2016 हेतु जनपद लखनऊ में विकास खण्ड के मासिक आवंटन/बोरा/डेड स्टाॅक आदि के भण्डारण हेतु एतत् द्वारा विकास खण्ड वार किराये पर गोदाम लिये जाने की तत्काल आवश्यकता के दृष्टिगत इच्छुक व्यक्तियों/फर्मों से एतत् द्वारा आवेदन पत्र निम्नलिखित विवरण के अनुसार आमंत्रित किये जाते हैं।
        उन्होंने सूचित किया कि ब्लाक/क्षेत्र का नाम- चिनहट/गोमतीनगर, वांछित भण्डारण क्षमता (कुन्तल)-18000, हसनगंज या उसके आस पास, वांछित भण्डारण क्षमता (कुन्तल)-20400।
     उन्होंने सूचित किया कि गोदाम लिये जाने की शर्तें निम्नवत् हैः-
1-गोदाम की फर्श पक्की व दीवार प्लास्टर युक्त होनी आवश्यक है। खिड़कियाँ एवं दरवाजे मजबूत लगेहों। जिसमें रोशनदान की व्यवस्था हो गोदाम मालिक की साख एवं सामाजिक स्थिति अच्छी हो।
2-गोदाम में विपणन निरीक्षक का कार्यालय व शौचालय अवश्य होना चाहिये तथा चैकीदार के लिए एक कमरा भी अलग से होना चाहिए।
3-प्रस्तावित गोदाम किसी निवास स्थान एवं दुकान का भाग न हो तथा किसी चावल/फ्लोर मिल परिसर से कम से कम 200 मीटर दूर एवं यथा सम्भव घनी आबादी से दूर स्थित होनी चाहिए।
4-गोदाम वैद्य भूमि, जिस पर गोदाम स्वामी का विधिक अधिकार हो, परस्थित होना चाहिए और गोदाम किसी संस्था अथवा बैंक के पास बन्धक नहीं होनी चाहिए।
5-गोदाम का किराया जिलाधिकारी लखनऊ द्वारा निर्गत औचित्य प्रमाण-पत्र एवं शासना देशों के अनुसार देय होगा।
6-इच्छुक व्यक्ति विज्ञापन की तिथि से 15 दिन के अन्दर किसी भी कार्य दिवस में जिला खाद्य विपणन अधिकारी कार्यालय, लखनऊ, सिन्हा मार्केट, आई0टी0 चैराहा, निकट-निराला नगर पुलिस चैकी, लखनऊ से सम्पर्क कर अपना आवेदन-पत्र प्रस्तुत कर सकते है। इससे सम्बन्धित कोई भी सूचना या जानकारी जि0खा0वि0अ0, लखनऊ कार्यालय से सम्पर्क कर प्राप्त की जा सकती है।
7-गोदाम को शासन एवं विभाग द्वारा निर्धारित मानकांे, अर्हताओं, नियमों एवं शर्तों को पूर्ण करनेे तथा सक्षम अधिकारी की अनुमति के बाद ही किरायेदारी पर लेने हेतु विचार किया जायेगा। एक विकास खण्ड के लिये एक से अधिक आवेदन-पत्र प्राप्त होने की दशा में उपयुक्तता एवं वरीयता के आधार पर निर्णय लिया जायेगा।इस सम्बन्ध में समिति/विभाग द्वारा लिया गया निर्णय अन्तिम व मान्य होगा।किसी भी गोदाम को किराये पर लेने अथवा न लिये जाने का पूर्ण अधिकार विभाग में निहित होगा। गोदाम हेतु प्रस्ताव उन्हीं गोदामों का दिया जाये जो वर्तमान मंे भण्डारण हेतु वैज्ञानिक रूप से उपयुक्त हों।