आपदा की आड़ में प्रदेश के कारागारों में जनप्रतिनिधियों व कैदियों के परिजनों को मुलाकात से रोका जा रहा है- शिवपाल यादव


विश्वसनीय न्याय प्रणाली हेतु पारदर्शी व निष्पक्ष कारागार व्यवस्था जरूरी,कारागार के भीतर कैदियों का आर्थिक शोषण और बाहर परिजनों का मानसिक शोषण किया जा रहा है।


     लखनऊ,  प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने कहा है कि न्याय प्रणाली को विश्वसनीय बनाने के लिए यह आवश्यक है कि कारागार व्यवस्था को पारदर्शी व निष्पक्ष बनाया जाए।


     शिवपाल यादव ने कहा कि आपदा की आड़ में प्रदेश के कारागारों में जनप्रतिनिधियों व कैदियों के परिजनों को मुलाकात से रोका जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के कारागारों में मिलने वाली सुविधाओं जैसे भोजन आदि में भ्रष्टाचार व्याप्त है। निरुद्ध कैदियों के साथ अमानवीय दुर्व्यवहार व प्रताड़ना की शिकायत भी प्राप्त हुई है। उन्होंने कहा कि मेरठ, फिरोजाबाद, मैनपुरी सहित विभिन्न कारागारों में निरुद्ध कैदियों का उत्पीड़न हो रहा है। अस्वस्थ कैदियों के परिजनों को भी उनके परिवार से मिलने नहीं दिया जा रहा है। कारागार के भीतर कैदियों का आर्थिक शोषण और बाहर उनके परिजनों का मानसिक शोषण किया जा रहा है।



      उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि,'कारागारों में मिलने वाली सुविधाओं में भ्रष्टाचार व्याप्त है। निरुद्ध कैदियों के साथ अमानवीय प्रताड़ना की शिकायत भी प्राप्त हो रही है।आपदा की आड़ में जनप्रतिनिधियों व परिजनों को मुलाकात से रोका जा रहा है। विश्वसनीय न्याय प्रणाली हेतु पारदर्शी व निष्पक्ष कारागार व्यवस्था आवश्यक है।'