अब इस जानवर से फैलने लगा कोरोना, 10 हजार को उतारा जाएगा माैत के घाट

           


     नीदरलैंड्स (मानवी मीडिया); दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है। इसी बीच एक जानकारी ने डॉक्टरों और वैज्ञानिकों को चिंता में डाल दिया है। ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी जानवर की वजह से इसके फैलने की पुष्टि हुई है। ये जानवर है ऊदबिलाव। नीदरलैंड्स में दो लोग ऊदबिलाव की वजह से कोरोना संक्रमित हो गए हैं। अब वहां की सरकार ने आदेश दिया है कि देश में 10 हजार से ज्यादा ऊदबिलावों का कत्ल कर दिया जाए।


      जानकारी के अनुसाए नीदरलैंड्स समेत कई यूरोपीय देशों में ऊदबिलावों की फार्मिंग होती है। नीदरलैंड्स के 10 मिंक फार्म्स में कोरोना संक्रमित ऊदबिलाव पाए गए हैं। अब इन जीवों को मारने का आदेश सभी फार्म्स के पास पहुंच चुका है। नीदरलैंड्स की फूड एंड वेअर्स अथॉरिटी ने यह आदेश जारी किया है। इस मामले में फूड एंड वेअर्स अथॉरिटी के प्रवक्ता फ्रेडरिक हर्मी ने कहा कि ऊदबिलावों को पालने वाले फार्म्स को कहा गया है कि जब कि कोरोना केस सभी ऊदबिलावों से खत्म नहीं हो जाते, तब तक फार्म्स बंद रहेंगे। हम नहीं चाहते कि इनकी वजह से और लोग कोरोना संक्रमित हों।


      नीदरलैंड्स में पहला ऊदबिलाव अप्रैल महीने में कोरोना संक्रमित हुआ था। बताया जा रहा है कि मई में दो लोग इन संक्रमित ऊदबिलावों के संपर्क में आए और संक्रमित हो गए। फिर यह धीरे-धीरे 10 फार्म्स के ऊदबिलावों में फैल गया। ऊदबिलावों को मारने के लिए गैस का उपयोग किया जाएगा। इसके बाद इनके शवों को डिस्पोजल प्लांट में ले जाकर खत्म कर दिया जाएगा। इसके बाद फार्म्स और डिस्पोजल प्लांट को सैनिटाइज किया जाएगा। आपको बता दें नीदरलैंड्स, चीन, डेनमार्क, पोलैंड जैसे देशों में ऊदबिलावों के फर और खाल का उपयोग किया जाता है।


     फैशन इंडस्ट्री में इन ऊदबिलावों के फर और खाल का बहुत ज्यादा उपयोग होता है।यूके ह्यूमन सोसाइटी इंटरनेशनल की एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर क्लेयर बास ने बताया कि हम दुनिया के 24 देशों को कहा है कि वो भी अपने यहां ऊदबिलावों की जांच करा लें। जरूरी हो तो अपने यहां भी इन ऊदबिलावों को मार सकते हैं। क्योंकि इससे तेजी से कोरोनावायरस फैल रहा है। नीदरलैंड्स के ऊदबिलावों की फार्मिंग करने वाले किसानों को कहा गया है कि सभी लोग अपने यहां ऊदबिलावों की जांच करा लें।  नीदरलैंड्स में 140 ऊदबिलाव फॉर्मिंग सेंटर्स हैं। ये पूरी दुनिया में हर साल 101.56 मिलियन डॉलर यानी 767 करोड़ रुपए का फर बेचते हैं।