बहन ने प्रेमी संग मिलकर की भाई की हत्या, परिजनों ने दिया साथ

    कानपुर अनवरगंज के कुलीबाजार में खुदकुशी की घटना का पुलिस ने खुलासा किया है. युवक की हत्या उसकी सगी बहन ने प्रेमी समेत तीन लोगों के साथ मिलकर की थी. शव को ठिकाने लगाने और साक्ष्य मिटाने में परिजनों ने भी साथ दिया था. लेकिन पुलिस ने तफ्तीश की तब पता चला कि आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या की वारदात है. 


जिसे मृतक की सगी बहन ने पिछले चचेरे भाई के साथ मिलकर अंजाम दिया था. पुलिस ने दोनों हत्यारोंपियों के साथ ही हत्या की घटना को छिपाने का प्रयास करने वाले लोगों पर मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया. बता दें कि अनवरगंज थाना क्षेत्र के कुली बाजार में 25 मई को ईद की शाम घर के बाथरूम में 21 साल मोहम्मद जफर का शव पड़ा हुआ मिला था.      


परिवार के कुछ लोगों ने पुलिस को बताया कि मानसिक अवसाद के चलते उसने आत्महत्या कर ली. मौके पर पहुंची पुलिस ने परिजनों की बात पर विश्वास कर लिया और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. बाद में शक होने पर पुलिस ने अगले दिन मौके पर पहुंचकर फॉरेंसिक जांच कराई तो मामला संदिग्ध प्रतीत हुआ.


बाथरूम में सुसाइड की बात कही थी बेंजामिन टेस्ट में वहां एक बूंद खून नहीं मिला, जबकि घर के अन्य जगहों पर खून को धोने की बात सामने आई. इसके बाद पुलिस ने तफ्तीश को आगे बढ़ाया और परिजनों से कड़ाई से पूछताछ की तो हत्या की वारदात खुल गई. दरअसल मृतक मोहम्मद जफर ने बहन को चचेरे भाई के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था.


जिसके बाद चचेरे भाई और बहन ने चाकू से उसकी गर्दन रेत दी. मामले की जानकारी होने पर मृतक के माता-पिता छोटे भाई, चाचा और ताऊ ने चाकू को मेन हॉल में फेंक दिया. जिसके बाद उन्होंने पुलिस को नाटकीय ढंग से फोन कर युवक के आत्महत्या करने की बात कही.


पुलिस ने हत्या और साक्ष्य मिटाने के मामले में 5 लोगों पर मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया. एसपी सिटी राजकुमार अग्रवाल ने बताया कि पहले आरोपियों ने पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया. सख्ती करने पर व टूट गए और अपना जुर्म कबूल कर लिया. पुलिस ने मैनहोल से आला कत्ल चाकू बरामद कर लिया गया है.