जन-जन तक बैंकिंग सुविधाओं के प्रसार में ‘बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट’ की महत्वपूर्ण भूमिका: मुख्यमंत्री

    मुख्यमंत्री के समक्ष आई0सी0आई0सी0आई0 बैंक की बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट योजना ‘एस0आर0एल0एम0-एस0ए0के0एच0आई0’ का प्रस्तुतीकरण।प्रदेश की बड़ी आबादी के दृष्टिगत ‘बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट’ की संख्या बढ़ाए जाने की जरूरत।प्रधानमंत्री के नेतृत्व व मार्गदर्शन में केन्द्र व राज्य सरकार ‘डिजिटल इण्डिया’ की अवधारणा पर प्रतिबद्धता के साथ कार्य रही हैं।राज्य सरकार प्रदेश की 58 हजार ग्राम पंचायतों में ‘बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट’ (बी0सी0 सखी) की तैनाती करने जा रही।लाॅकडाउन के दौरान ‘बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट’ के माध्यम से बैंकों में भीड़ कम करने और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने में मदद मिली।

 

       लखनऊ, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व व मार्गदर्शन में केन्द्र व राज्य सरकार ‘डिजिटल इण्डिया’ की अवधारणा पर प्रतिबद्धता के साथ कार्य रही हैं। इसके दृष्टिगत ‘काॅमन सर्विस सेण्टर’ को सुदृढ़ किया गया है। इसके बावजूद जन-जन तक विशेषकर ग्रामीण इलाकों में बैंकिंग सुविधाओं के प्रसार में ‘बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट’ की महत्वपूर्ण भूमिका है। राज्य में पहले से ही ‘बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट’ की व्यवस्था संचालित है। कोरोना संकट के समय इसकी उपयोगिता देखने को मिली है। 

 

     मुख्यमंत्री आज यहां अपने सरकारी आवास पर आई0सी0आई0सी0आई0 बैंक के अधिकारियों द्वारा प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट योजना ‘एस0आर0एल0एम0-एस0ए0के0एच0आई0’ के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण के दौरान अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।मुख्यमंत्री जी ने कहा कि लाॅकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अन्तर्गत राज्य के 2.04 करोड़ किसानों के खाते में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, जन-धन खाताधारक 56 लाख महिलाओं के खाते में सहायता धनराशि, 87 लाख वृद्धावस्था, निराश्रित महिला एवं दिव्यांगजन के खाते में पेंशन धनराशि सहित विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों के खाते में धनराशि अन्तरित की गई। इस धनराशि को निकालने के लिए बड़ी संख्या में लाभार्थी बैंकों में एकत्र न हों, इसके लिए केन्द्र व राज्य सरकार ने व्यवस्था की थी। इस दौरान ‘बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट’ के माध्यम से भी बैंकों में भीड़ कम करने और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने में मदद मिली। 

 

    मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य में वर्तमान में लगभग 62 हजार ‘बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट’ कार्यरत हैं। राज्य की बड़ी आबादी के दृष्टिगत इनकी संख्या बढ़ाए जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश की 58 हजार ग्राम पंचायतों में ‘बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट’ (बी0सी0 सखी) की तैनाती करने जा रही है। ‘बैंकिंग काॅरेस्पाॅण्डेंट’ (बी0सी0 सखी) को 06 माह के मानदेय के रूप में प्रतिमाह 04 हजार रुपए की दर से 24 हजार रुपए प्रदान किए जाएंगे। साथ ही, जरूरी डिवाइस की खरीद के लिए भी धनराशि दी जाएगी। उन्होंने कहा कि ‘बी0सी0 सखी’ बैंकों के माध्यम से होने वाले ट्रांजेक्शन पर भी आय अर्जित कर सकेंगी। इस अवसर पर खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री श्री सिद्धार्थनाथ सिंह, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री संजीव मित्तल, प्रमुख सचिव खादी एवं ग्रामोद्योग श्री नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव समाज कल्याण श्री मनोज सिंह, प्रमुख सचिव कृषि श्री देवेश चतुर्वेदी, प्रमुख सचिव आवास एवं शहरी नियोजन श्री दीपक कुमार, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री संजय प्रसाद, आई0सी0आई0सी0आई0 बैंक के स्टेट हेड श्री परितोष जोशी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।