जिलाधिकारी ने होम क्वारेन्टाइन किये गये लोगों से स्वास्थ्य की ली जानकारी तथा वार्ड का किया निरीक्षण


     जिलाधिकारी ने टीम-11 के अधिकारियों के साथ की बैठक दिये आवश्यक दिशा निर्देश,वार्ड की गलियों एवं नालियों में गन्दगी व दोपहर में स्ट्रीट लाईट जली पाये जाने पर जिलाधिकारी ने अधिशासी अधिकारी नगर पालिका को लगायी फटकार। 

     प्रतापगढ़, जिलाधिकारी डा0 रूपेश कुमार की अध्यक्षता में आज कैम्प कार्यालय में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव, रोकथाम एवं आमजनमानस को आवश्यक सुविधाये सुनिश्चित करने हेतु गठित टीम-11 के साथ बैठक की गयी। बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि जनपद में अब तक 87 कोरोना पाजिटिव केस पाये गये है जिसमें से 71 मरीज ईलाज के बाद स्वस्थ्य हो चुके है, 09 मरीजों को ईलाज कोविड-1 हास्पिटल ट्रामा सेन्टर लालगंज में तथा 03 मरीजों का ईलाज मेडिकल कालेज में चल रहा है तथा 04 मरीजों की मृत्यु हो चुकी है। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि कोविड-1 सम्बद्ध हास्पिटल सन्त अन्थोनी इण्टर कालेज में समस्त व्यवस्थायें दुरूस्त कर ली जाये तथा डाक्टर एवं पैरामेडिकल स्टाफ को कोविड-19 से सम्बन्धित पर्याप्त ट्रेनिंग दे दी जाये तथा क्लीनिक्ल गाइडलाइन के अनुसार पर्याप्त दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाये। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि कोरोना पाजिटिव पाये गये मरीजों के क्लोज कान्टैक्ट का सैम्पल लेकर उन्हें मेडिकल क्वारेन्टाइन में रखा जाये तथा कान्टैक्ट ट्रेसिंग करते समय यह ध्यान रखा जाये कि यदि उनमें संक्रमण के लक्षण पाये जाते है यथा शुगर, बी0पी0, सास फुलने आदि तो उन्हें मेडिकल कालेज भेजा जाये एवं सैम्पल लेने वाली टीमों द्वारा इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये व कोरोना संक्रमित मरीजों का प्रोटोकाल के अनुसार ईलाज किया जाये। 


     जिलाधिकारी ने उपजिलाधिकारियों को निर्देशित किया कि जो पात्र प्रवासी श्रमिक परिवार खाद्यान्न किट प्राप्त करने से वंचित रह गये है उन्हें खाद्यान्न किट उपलब्ध करा दी जाये। उन्होने अधिशासी अधिकारी नगर पालिका को निर्देशित किया कि शहरी क्षेत्र में घूम रहे अवारा पशुओं को पकड़कर गो संरक्षण केन्द्र में रखा जाये एवं यदि पशुपालक अपना जानवर अनायाश शहर में छोड़ रहे है हो तो उनके पशुओं को पकड़कर उनके मालिक पर जुर्माना भी लगाया जाये। बैठक में अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0) शत्रोहन वैश्य, मुख्य राजस्व अधिकारी श्रीराम यादव, उपजिलाधिकारी सदर मोहन लाल गुप्ता, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 अरविन्द कुमार श्रीवास्तव, जिला सूचना अधिकारी विजय कुमार सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।
जिलाधिकारी डा0 रूपेश कुमार ने आज मोहल्ला निगरानी समिति के अन्तर्गत सदर बाजार वार्ड में होम क्वारेन्टाइन किये लोगों से उनके स्वास्थ्य के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की।



      जिलाधिकारी ने होम क्वारेन्टाइन किये गये राजेश कुमार से उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली तो राजेश कुमार द्वारा बताया गया कि वह दिनांक 20 मई को बंगलौर से आया था, वह बंगलौर में ड्राइवर का कार्य करते थे तथा मेरा स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक है, कोई परेशानी नही है। इसी प्रकार उन्होने होम क्वारेन्टाइन किये गये कुन्दन सिंह से जानकारी प्राप्त की तो बताया कि मुम्बई से आया हूॅ तथा मेरा स्वास्थ्य ठीक है। जिलाधिकारी ने सभी होम क्वारेन्टाइन किये गये लोगों को निर्देशित किया कि जब तक 21 दिन की होम क्वारेन्टाइन की अवधि पूर्ण न हो जाये तब तक अपने घरों में ही रहे। होम क्वारेन्टाइन किये गये घरों में फ्लायर न लगा होने पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुये सम्बन्धित सभासद को निर्देश दिया कि होम क्वारेन्टाइन किये गये व्यक्तियों के घरों पर फ्लायर लगाया जाये ताकि अन्य व्यक्तियों को जानकारी हो सके। जिलाधिकारी ने सदर बाजार के वार्ड का निरीक्षण किया तो गलियो और नालियो में गन्दगी पायी गयी तथा दोपहर में स्ट्रीट लाईट जली होने पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुये अधिशासी अधिकारी नगर पालिका को फटकार लगाते हुये निर्देशित किया कि तत्काल गलियों और नालियों की साफ-सफाई की जाये तथा स्ट्रीट लाईट के जिम्मेदार अधिकारी/कर्मचारी पर कार्यवाही की जाये। उन्होने अधिशासी अधिकारी को निर्देशित किया कि मोहल्ला निगरानी समितियों को सक्रिय किया जाये और होम क्वारेन्टाइन किये गये लोगों पर सतर्क निगरानी रखी जाये इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही एवं उदासीनता कदापि न बरती जाये। निरीक्षण के दौरान जिला सूचना अधिकारी विजय कुमार, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका परिषद बेल्हा, सभासद पति रवीन्द्र केसरवानी उपस्थित रहे।