केरल के सीएम पी. विजयन ने कहा, गर्भवती हथिनी के हत्यारों को मिलेगी सख्त सजा

     


केरल के सीएम पी. विजयन ने कहा, गर्भवती हथिनी के हत्यारों को मिलेगी सख्त सजा, 3 संदिग्धों पर है फोकस।


     केरल तिरुवनंतपुरम, केरल में एक गर्भवती हथिनी की पिछले महीने के आखिर में निर्ममता पूर्वक की गई हत्या को लेकर फूटे गुस्से के बीच राज्य के मुख्यमंत्री पी. विजयन ने गुरुवार को ट्वीटर के जरिए कहा कि हत्यारों को सजा मिलेगी। पी. विजयन ने कहा, “जांच जारी है और तीन संदिग्धों पर फोकस है। पुलिस और वन विभाग संयुक्त रूप से इस घटना की जांच कर रहे हैं। जिला पुलिस प्रमुख और जिला वन विभाग के अधिकारियों ने आज मौके का मुआयना किया। हम वो हरसंभव करेंगे जिससे हत्यारों को सजा मिल सके।”मुख्यमंत्री ने लोगों को आश्वस्त किया कि न्याय किया जाएगा। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, “आपमें से कई लोग हमारे पास आए। हम आपको यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि आपकी चिंता व्यर्थ नहीं जाएगी। इंसाफ की जीत होगी।” विजयन ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ लोग इस हादसे का इस्तेमाल कर घटिया कैंपेन कर रहे हैं।



       इतने कष्‍ट में होने के बावजूद उसने किसी को नहीं पहुंचाया नुकसान 
 
      केरल के पालक्कड़ जिले में एक गर्भवती हथिनी की दर्दनाक मौत के मामले में वन विभाग ने कहा है कि जांच में महत्वपूर्ण कामयाबी मिली है। हथिनी की मौत की छानबीन के लिए गठित विशेष जांच टीम ने कई संदिग्धों से पूछताछ की है। साइलेंट वैली जंगल में हथिनी ने पटाखा भरा हुआ अन्नानास खा लिया था। यह उसके मुंह में फट गया और एक सप्ताह बाद 27 मई को उसकी मौत हो गई।वन विभाग ने कहा है कि दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने के लिए वह कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेगा।विभाग ने एक ट्वीट में कहा, ''हथिनी के शिकार के लिए दर्ज मामले में कई संदिग्धों से पूछताछ की गई है। इस संबंध में गठित एसआईटी को अहम सुराग मिले हैं। वन विभाग दोषियों को अधिकतम सजा दिलवाने के लिए कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेगा। हालांकि, विभाग ने कहा कि ऐसे कोई प्रमाण नहीं हैं कि पटाखा भरा अन्नानास खाने के कारण हथिनी के निचले जबड़े को नुकसान हुआ और यह महज एक संभावना हो सकती है।विभाग ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किए हैं और उनकी पहचान की जा रही है।


     केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने बुधवार को कहा कि केंद्र ने इस पर एक समग्र रिपोर्ट मांगी है और आश्वस्त किया कि घटना में शामिल दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी ।एसओएस जानवरों के पुनर्वासन के लिए काम करता है जावड़ेकर ने गुरुवार को एक ट्वीट में कहा, ''पटाखा खिलाकर जान लेना, भारतीय संस्कृति नहीं है । हम गहराई से जांच कराने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेंगे और अपराधियों को पकड़ेंगे। वन विभान ने 27 मई को दो प्रशिक्षित हाथियों की मदद से इस हथिनी को वेल्लियार नदी तट पर लाने का प्रयास किया था, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। आखिरकर हथिनी की मौत हो गई।वन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, '' पटाखों से भरा अन्नानास खाने से हुए विस्फोट में उसका जबड़ा टूट गया था और वह कुछ भी चबा पाने में असमर्थ थी।



      पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला कि हथिनी गर्भवती थी। अनुष्का शर्मा, श्रद्धा कपूर, रणदीप हुड्डा समेत कई नामचीन हस्तियों ने घटना पर चिंता प्रकट करते हुए जानवरों से क्रूरता करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।साइलेंट वैली जंगल में हथिनी की ऐसी दुखद मौत का खुलासा वन विभाग के एक अधिकारी द्वारा अपने फेसबुक पोस्ट पर भावुक टिप्पणी पोस्ट किए जाने के बाद हुआ था। उन्होंने लिखा था, ''जब हमने उसे देखा तो वह नदी में खड़ी थी, उसका सिर पानी में डुबा हुआ था। उसे अपनी छठी इंद्री से समझ आ गया था कि वह मरने वाली है। उसने खड़े खड़े ही नदी में जलसमाधि ले ली।'' उन्होंने नदी में सिर झुकाए खड़ी हथिनी के फोटो भी पोस्ट किए थे।


हथिनी की निर्मम हत्या


     मल्लपुरम में गर्भवती हथिनी को अनन्नास फल में बारूद भरकर खिला दिया गया, जो उसके मुंह में फटा और उसका जबड़ा नष्ट हो गया। वह दर्द से छटपटाती हुई लगभग एक सप्ताह तक इस गांव से उस गांव भागती रही और अन्त में एक नदी में उतरकर राहत पाने के लिए अपने गले तक का हिस्सा पानी में डुबो दिया।लेकिन वह बच नहीं सकी और पीड़ा से छटपटाते हुए उसकी मौत हो गई।
मल्लपुरम केरल का वही जिला है, जिसका कुछ दशक पूर्व कांग्रेस, मुसलिम लीग व कम्युनिस्ट पार्टी की आपसी साठगांठ से इसलामी आधार पर मुसलिम जिले के रूप में गठन किया गया था। यह जिला राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र में शामिल है। जो राहुल गांधी बातबात में जहर उगलते रहते हैं, वह अपने संसदीय क्षेत्र में गर्भवती हथिनी की निर्मम हत्या पर अबतक एक शब्द नहीं बोले हैं। यही है मुसलिम-तुष्टिकरण नीति! महाराष्ट्र के पालघर में साधुओं के ह्रदयविदारक हत्याकांड के अपराधी जिस प्रकार मौज कर रहे हैं, उसी प्रकार मल्लपुरम के हत्यारे भी मौज करते रहेंगे!