प्रवासी श्रमिकों के सहयोग में लापरवाही पर होगी सख्त कार्यवाही-जिलाधिकारी


      अयोध्या, जिलाधिकारी ने निर्देश दिया है की अन्य प्रदेशों से आ रहे कामगारों( प्रवासी श्रमिकों) को फौरी तौर पर तात्कालिक आर्थिक सहायता के रूप में दिए जाने वाले ₹1000 के लिए प्रवासी श्रमिकों का डाटा आपदा राहत पोर्टल पर तेजी से फीडिंग कराई जाए, ताकि जल्द से जल्द सभी प्रवासी श्रमिकों को उत्तर प्रदेश शासन दुवारा उन्हें प्रदान की जाने वाली आर्थिक सहायता का लाभ मिल सके।


          कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में उप जिलाधिकारियों सहित सभी  तहसीलदारों के साथ बैठक करते हुए जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने बताया कि जो प्रवासी श्रमिक बाहर से आए हैं उनके पास विगत 2 माह से कोई रोजगार नहीं था, ऐसे में  उनके लिए प्रदान की जाने वाली आर्थिक सहायता की राशि काफी मायने रखती है। उन्होंने ने सख्त लहजे में कहा कि सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर उनके 24 बिंदुओं पर संकलित की जाने वाली डाटा तथा उसकी फीडिंग में तेजी लाया जाए, साथ ही यदि आवश्यक हो तो इस कार्य में तहसील स्टाफ को भी लगाएं उन्हें मोबाइल ऐप की लॉगिन भी उपलब्ध कराए। किसी भी स्तर पर कोई तकनीकी परेशानी हो तो जिला सूचना विज्ञान अधिकारी एनआईसी से संपर्क करें। शिथिलता बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जाएगी।


     जिलाधिकारी ने बैठक में सभी उप जिलाधिकारियों व तहसीलदार से कहा की प्रतिदिन 9:00 बजे मोबाइल से लेखपाल की लोकेशन ले, बात करें ,24 बिंदुओं पर मांगी गई सूचना जमा करने को कहें ,साथ ही प्रतिदिन लेखपाल से 24 बिंदुओं के भरे हुए  कितने प्रपत्र प्राप्त हुए तथा कितने की सही सही फीडिंग हो गई है का सत्यापन कर रिपोर्ट अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व श्री गोरे लाल शुक्ल को भेजें । विशेष रूप से या ध्यान दिया जाए कि प्रवासी श्रमिकों का नाम, पिता का नाम ,पता ,किस स्थान से आए हैं, कब आए हैं,किस साधन से आये हैं, उनका आधार नम्बर,बैंक खाता नंबर, बैंक का नाम ,शाखा का नाम, आईएफसी कोड, तथा मजदूर द्वारा पूर्व में क्या-क्या कार्य किया गया ,उसे किस कार्य का अनुभव है, भरा जाना है। जो भी फार्म में भरा जाए वह पूर्ण रूप से शुद्ध व पूर्ण होना चाहिए। लेखपाल के साथ नियमित रूप से समीक्षा भी करें। बैठक में अपर जिलाधिकारी वित एवम  राजस्व, उप जिलाधिकारी एवं समस्त तहसीलदार, नायब तहसीलदार उपस्थित थे।