व्यापारी व उद्यमी संगठनों से अपील,स्वदेशी को बढ़ावा देकर आत्मनिर्भर भारत बनाने में करें योगदान-केशव प्रसाद मौर्य


    लखनऊ, उपमुख्यमंत्री  केशव प्रसाद मौर्य ने व्यापार एवं उद्योग जगत के प्रतिनिधियों का आह्वान किया है कि वह प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत बनाने के संकल्प को पूरा करने के लिए स्वदेशी को बढ़ावा दें व स्वदेशी चीजों का ही उपयोग करें। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट को अवसर में बदल कर उद्योग धन्धे करें और ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ बनाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करें।  केशव प्रसाद मौर्य आज उत्तर प्रदेश के ट्रेडर्स एंड इंडस्ट्रीज वेलफेयर एसोसिएशन (व्यापार एवं उद्योग जगत का महत्वपूर्ण संगठन) के प्रतिनिधियों से वेबिनार के जरिए संवाद कर रहे थे ।


     अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद द्वारा दिए गए ज्ञापन पर उन्होंने सभी को आश्वस्त किया कि उनकी हर समस्या का हर संभव निदान किया जाएगा। छोटे, मझोले और किसी भी किस्म के व्यापारी या उद्यमी का किसी भी तरह का उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ के पैकेज से छोटे व मध्यम वर्ग के व्यापारियों एवं उद्यमियों को बहुत सी सुविधाएं दिये जाने का प्राविधान किया गया है और किसी को भी इन सुविधाओं से वंचित नहीं होने दिया जाएगा। 


      भारत कृषि प्रधान देश है, लेकिन व्यापारियों व उद्यमियो का देश व समाज के विकास में बहुत महत्वपूर्ण योगदान है। व्यापार और उद्योगों को बढ़ावा मिलने पर समाज का उत्थान हो सकेगा। सरकार सभी वर्गों के साथ मुस्तैदी के साथ खड़ी है और सभी की समस्याओं के प्रति सरकार गंभीर है और इस दिशा में प्रभावी, सार्थक और सकारात्मक कदम भी उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि  कोरोना संकटकाल में व्यापारियों व उद्यमियों का मजदूरों की सहायता करने में योगदान रहा है। 


  केशव प्रसाद मौर्य ने व्यापारियों का आह्वान किया कि वह अपने प्रतिष्ठानों में स्वदेशी सामग्री की बिक्री को बढ़ावा दें। हमें भारत को सुपर पावर के रूप में स्थापित करना है। उन्होंने कहा कि हम ऐसे उद्योग लगाएं, कि जिससे मजदूरों को रोजगार मिले और यहां के हुनरमंद लोगों को भी काम मिले और व्यापारियों की आमदनी मे इजाफा होने के साथ-साथ, देश की उन्नति का मार्ग भी प्रशस्त हो सके। उन्होंने व्यापारियों और उद्यमियों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि प्रत्येक व्यापारी को सरकार की ओर से हर संभव सहायता उपलब्ध कराई जाएगी और आशा व्यक्त की कि आत्मनिर्भर भारत बनाने में व्यापारी और उद्यमी अपनी अग्रणी भूमिका का निर्वहन करेंगे।


   उप मुख्यमंत्री ने कहा कि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने का कार्य किया जा रहा है और धीरे-धीरे व्यापारिक प्रतिष्ठान परिस्थितियों के अनुरूप खोलने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि व्यापारियों के हितों को ध्यान में रखते हुए ही उत्तर प्रदेश में व्यापारी कल्याण बोर्ड का भी गठन किया गया। 


     वेबिनार के जरिए उन्होंने बदायूं, औरैया, आगरा, कानपुर व अन्य जिलों के प्रतिनिधियों के साथ वार्ता करते हुए उनकी समस्याएं सुनी, सुझाव सुने और कहा कि व्यापार और विकास एक दूसरे के पूरक हैं। उन्होंने व्यापारियों व उद्यमियों की समस्याओं के निराकरण का आश्वासन दिया।