यश पेपर मिल में अबतक 5 कोरोना संक्रमित

अयोध्या 06 जुलाई ,आज दिनांक 06 जुलाई 2020 को आर0पी0एल0 प्रशिक्षण केंद्र,अयोध्या का उद्घाटन माननीय जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी महोदय के द्वारा किया गया। इस अवसर पर अनेक गणमान्य अतिथिगण मौजूद थे। इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने अपने वक्तव्य में कौशल विकास की आज के दौर में उपयोगिता के बारे में बोलते हुए माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओ के बारे में बताया गया एवं आर०पी०एल0 के प्रशिक्षार्थियों को ड्रेस वितरण भी किया गया तथा महेन्द्रा एजुकेशनल प्राइवेट लिमिटेड के द्वारा इस क्षेत्र में किए गये कार्यो के लिए धन्यवाद दिया। इस अवसर पर महेन्द्रा गुप के डायरेटर श्री नवीन कुमार जैन ने महेन्द्रा के द्वारा आगे किये जाने वाले कार्यो के बारे में बताया और कौशल विकास के क्षेत्र में आगे और भी ऐसे केन्द्रों के द्वारा युवाओं को रोजगार परक शिक्षा प्रदान करने की प्रतिबद्धता को दोहराया।


   अंत में महेन्द्र गुप के डायरेक्टर ने धन्यवाद प्रस्ताव देते हुए आगे भी इस तरह के आयोजन करने का आश्वासन दिया। इस अवगत पर आई0टी0आई0 के प्रधानाचार्य के0के0 लाल, डी०पी०एम०यू० अयोध्या के एम0आई0एस मैनेजर आकाश पाठक तथा महेन्द्र समूह के स्टेट हेड मनीष प्रताप सिंह के साथ उत्तर प्रदेश कौशल विकास केन्द्र के स्टाफ और ट्रेनर्स छात्रों के साथ उपस्थित रहे।


    तहसील सदर के ब्लॉक पूरा बाजार के ग्राम पंचायत पाराखान मे स्थित यश पेपर मिल में अबतक 5 कोरोना संक्रमित व्यक्ति मिलने पर यशपेपर मिल के संपूर्ण परिसर को सील करते  हुए मिल द्वारा उत्पादित वस्तुओं के स्टॉक की आपूर्ति पर जिला प्रशासन ने तात्कालिक प्रभाव से रोक लगा दी है। उक्त जानकारी देते हुए जिला मजिस्ट्रेट श्री अनुज कुमार झा ने बताया कि पूरे परिसर के साथ टेबल वेयर यूनिट व पेपर प्लांट का बारीकी से निरीक्षण करते हुए कंपनी के सेक्रेटरी तथा यूटिलिटी हेड को निर्देशित किया कि सभी लोग अपनी -अपनी सुरक्षा का ध्यान रखते हुए सभी संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आए हुए लोंगों सहित  ऑफिस के सभी कर्मियों व सभी मुख्य वर्करों, सफाई कर्मी, चैकीदार, इंजीनियर, मैनेजिंग स्टॉफ आदि का आज ही अनिवार्य रूप से प्रथम चरण में  कोविड-19  के टेस्ट हेतु सैंपुलिग कराई जाए । सैंपलिंग के दौरान हर वर्कर ध्व्यक्ति मास्क पहने रहेगा तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करेगा । उन्होंने कहा सभी के सैंपलिंग पूर्ण होने तक गेट को बंद रखेंगे और कोई भी व्यक्ति तब तक बाहर नहीं जाएगा जब तक सैंपलिंग का कार्य पूर्ण नहीं हो जाता। उन्होंने कहा सैंपलिंग के पश्चात जब तक उसकी रिपोर्ट नहीं आ जाती तब तक सभी व्यक्ति अपने अपने घरों में होम कोरेंटेन रहेंगे और होम कोरांटेन के सभी नियमों का पूर्णता पालन करेंगे तथा 14 दिनों तक अलग कमरे रहेंगे और यथासंभव अलग वाशरूम का प्रयोग करेंगे। उन्होंने  आगे बताया की जिन  स्टाफ, इंजीनियर, सफाई कर्मी, चैकीदार ,की सैंपलिंग हुई है  उनके परिवार के सभी सदस्यों को भी सावधानी बरतने की सलाह दी जाए तथा आवश्यकता अनुसार उनके भी सैंपल लेकर जांच कराई जाए। उन्होंने तहसीलदार सदर तथा क्षेत्राधिकारी पुलिस को निर्देशित किया कि कोई भी वर्कर स्टाफ, सफाई कर्मी, इंजीनियर, छूटना नहीं चाहिए जिला मजिस्ट्रेट ने आगे कहा कि जो वर्कर या कर्मी बाहर से आते हैं उनका भी सर्वे कर लिया जाए और उनके विवरण मोबाइल नंबर सहित एक रजिस्टर में दर्ज कर अलग से रख लिया जाए ।जिला मजिस्ट्रेट ने क्षेत्राधिकारी को निर्देशित किया कि गेट पर सुरक्षा हेतु  पुलिसकर्मियों को तैनात करें रिपोर्ट आने तक कोई भी व्यक्ति बाहर नहीं जाएगा ।उन्होंने तहसीलदार तथा क्षेत्र अधिकारी को निर्देशित किया कि दूध सब्जी राशन दवा आदि की डिलीवरी मि ल गेट तक कराई जाए ताकि अंदर रह रहे लोगों को कोई भी,किसी प्रकार की परेशानी न हो। टेबल वेयर यूनिट पेपर प्लांट तथा संपूर्ण परिसर को भी विसंक्रमित कराने के साथ-साथ वॉशरूम व फर्शो को भी को माविंग भी कराएं। जिला मजिस्ट्रेट को निरीक्षण के दौरान परिसर के गड्ढों में पानी व उसमें मच्छर का लारवा भी दिखा। उन्होंने कहा यह खतरनाक है। पानी से भरे हुए  सभी गड्ढों में लारवा साइड का छिड़काव कराएं। ताकि मच्छर जनित रोगों का फैलाव न होने पाए। उन्होंने परिसर में उपस्थित सभी वर्कर, इंजीनियर स्टाफ ,ऑफिशियल स्टाफ ,सफाई कर्मी, को आश्वासन दिया की घबराने की आवश्यकता नहीं है ।जिला प्रशासन आपके साथ हैं। हर व्यक्ति का उचित इलाज होगा ।उनके परिवार में भी यदि कोई व्यक्ति संक्रमित हुआ है, तो उसका भी जिला प्रशासन पूर्ण इलाज कराएगा। इस दौरान उन्होंने सभी से उन दवाओ जिससे इम्यूनिटी बढ़ती है, के लगातार प्रयोग करते रहने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि आप सभी हमेशा गर्म पानी पिए। गिलोय का काढ़ा, च्यवनप्राश के साथ वे सभी वस्तुओं का प्रयोग करें जिससे शरीर में इम्यूनिटी  का विकास हो।