लखनऊ में पूर्व ब्लॉक प्रमुख की हत्या

 लखनऊ –   लखनऊ में विभूतिखंड स्थित भीड़ भरे कठौता पुलिस चौकी के सामने बुधवार रात गैंगवार में मऊ के मोहम्मदाबाद गोहना के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई। वारदात के दौरान उसके परिचित मोहर सिंह के पैर में भी तीन गोलियां लगीं। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंज उठा। गैंगवार में मऊ के पूर्व ब्लॉक प्रमुख की हत्या कर दी गई।

लखनऊ के विभूतिखंड में कठौता पुलिस चौकी के सामने हुई गैंगवार में पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह उर्फ लंगडे की गोली मारकर हत्या कर दी। इस घटना में उसका साथी और एक राहगीर घायल हो गया। गोलीबारी में अजीत का साथी मोहर सिंह और वहां से गुजर रहे डिलीवरी ब्वॉय आकाश को भी गोली लगी, जिन्हें लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर के मुताबिक, हमलावर अजीत के परिचित थे। दोनों तरफ से गोलियां चली हैं।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में गैंगवार के दौरान मऊ जिले के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई। दिनदहाड़े फायरिंग से इलाके में हड़कंप मच गया। घटना राजधानी के विभूतिखण्ड थाना क्षेत्र के पॉश इलाके कठौता चौराहे की है। फायरिंग में दो लोगों के घायल होने की सूचना मिली है।

बताया गया कि गैंगवार के चलते ताबड़तोड़ फायरिंग की गई। पुलिस के मुताबिक देर शाम करीब 9 बजे कठौता चौराहे से 50 मीटर की दूरी पर फायरिंग की सूचना मिली। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना में घायल अजीत सिंह और उसके साथी मोहर सिंह को लोहिया अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने अजीत सिंह को मृत घोषित कर दिया।

गैंगवार में लगभग 25-30 राउंड फायरिंग हुई है। गोलियों की तड़तड़ाहट से इलाका गूंज उठा। चौराहे पर भगदड़ मच गई और दुकानदार दुकानें बंद कर भागने लगे। ग्वारी गांव निवासी डिलीवरी ब्वॉय प्रकाश को गोली लगने की सूचना मिलने पर उसके परिवार में कोहराम मच गया।पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि अजीत सिंह मऊ जिले के मोहम्मदाबाद गोहना का पूर्व ब्लॉक प्रमुख और मुख्तार गिरोह के खास था।

यह आजमगढ़ के सगरी से विधायक सीपू सिंह की हत्या में गवाह था। इस समय सीपू सिंह की पत्नी वंदना सगरी से विधायक हैं। अजीत के घर वालों ने गुड्डू सिंह और उसके साथियों पर पूर्व ब्लॉक प्रमुख की हत्या का आरोप लगाया है। इस बदमाश के खिलाफ पांच हत्या समेत करीब 18 मामले दर्ज हैं। इसे दिसम्बर माह में जिला बदर किया गया था। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।