फिर शर्मसार हुयी खाकी...?

 


कानपुर देहात। कानपुर देहात मे दारोगा ने वर्दी को शर्मसार करते हुऐ सारी हदें लांघ दी। अभी लखीमपुर की घटना को चन्द रोज भी नही हुए कि यूपी पुलिस ने फिर अपना आपा खो दिया है। मामला कानपुर देहात के भोगनीपुर थाने के गांव दुर्गदास पुर का है जहां समचौकी इंचार्ज महेन्द पटेल चार सिपाहियों के साथ दबिश देने गए थे । पुलिस टीम के साथ कोई महिला कॉन्स्टेबल भी नही थी । चौकी इंचार्ज ने पूरे परिवार की महिलाओ सके गाली गलौज की और शिवम की मां श्यामा देवीपत्नी इंदजीत को गिरा कर उनके सीने पर बैठ गए । जब श्यामा देवी की बहू आरती अपनी सास को बचाने आयी तो बहू आरती को भी चौकी इंचार्ज ने नही छोड़ा और उसको भी गिरा लिया । शिवम को भी गिरा गिरा कर पूरे गांव के सामने मारते हुये दारोगा जी थाने ले गये ।


 कानपुर देहात मे दिल दहलाने वाली घटना सामने आ रही है जहां खाकी ने महिलाओ की मर्यादा की सारी सीमाये तार तार कर दी है अभी लखीमपुर की घटना को चन्द रोज भी नही हुए कि योगी की पुलिस ने फिर अपना आपा खो दिया है। मामला कानपुर देहात के भोगनीपुर थाने के गांव दुर्गदास पुर का है जहां सम्बन्धित चौकी इंचार्ज उ.नि. महेन्द पटेल ने और चार सिपाहियों ने एक परिवार पर कहर ढहा दिया ।बिना महिला का. के पीडित के घर दविस देने पहुचे चौकी इंचार्ज ने पूरे परिवार की महिलाओ को चौकी इंचार्ज नेे शिवम की मां श्यामा देवी पत्नी इंदजीत को गिरा गिरा कर मारा व पीडिता के सीने पर चढ़ गये। जव अपनी सास को बचाने आयी बहू आरती को भी चौकी इंचार्ज ने नही छोड़ा और उसको गिरा कर सीने पर चढ गये ।शिवम को भी गिरा गिरा कर पूरे गांव के सामने मारते हुये दारोगा जी थाने ले गये जबकि पीडित पछ के विरूद्ध कोई एनसीआर तक नहीं है। सम्बन्धित मामले को लेकर पीडित परिवार बिल्हौर से विधायक भगवती प्रसाद सागर से दिनांक 16/07/21 को मिला और परिवार के साथ कोई अप्रिय घटना होने का अंदेशा बताया जिस पर तुरन्त संज्ञान लेते हुए विधायक ने आई जी कानपुर जोन को सम्बन्धित घटना से अवगत करा दिया था किन्तु आई जी साहव व विधायक के आदेश को ना मानते हुये चौकी इंचार्ज ने अमानवीय कृत को अंजाम दिया ।अव देखना है कि महिलाओं के सम्मान में हमेशा आवाज बुलंद करने वाले प्रधानमंत्री  व  मुख्यमंत्री जी इसमें कब तक न्याय करते हैं ।